ऑटोचालक के हाथ लगा नोटों से भरा बैग, फिर उसने जो किया उससे सभी चौंक गए…

0
98

बुजुर्ग को थाने में पुलिसवालों की मौजूदगी में पैसे लौटाता ईमानदार ऑटोचालक.

रुपये से भरा बैग मिलने के बाद पितांबर सिटी पुलिस चौकी मंडी पहुंच गए. वहां उन्होंने पूरी बात पुलिसवालों को बताई और मामला दर्ज कराकर रुपये से भरा बैग पुलिस के हवाले कर चलते बने.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 18, 2020, 12:01 AM IST

मंडी. आप जेब से गरीब हों और दिल से अमीर, तो भी तीन लाख की रकम बड़ी होती है, मगर वह आपके ईमान को डिगा नहीं सकती. यह बात साबित की मंडी शहर के ऑटोचालक (Auto driver) ने. इस ऑटोचालक का नाम है पितांबर सिंह.थाने में जमा करा दिया रुपये से भरा बैग

मंडी (Mandi) शहर में ऑटो चलाया करते हैं पितांबर सिंह. दो दिन पहले यानी 15 अक्टूबर को भी वे रोज की तरह अपना ऑटो लेकर सड़क पर थे. तभी एक बुजर्ग सवारी पितांबर के ऑटो पर बैठी. उनके हाथ में एक बैग था. वह इस ऑटो से बाजार की तरफ गए. वहां पितांबर को उन्होंने ऑटो के किराए का पैसा दिया और बाजार की ओर चले गए. थोड़ी देर बाद पिताबंर की निगाह पिछली सीट पर गई, जहां थोड़ी देर पहले एक बुजुर्ग सवारी बैठी थी. पितांबर ने देखा कि उस सीट पर एक बैग पड़ा है. पितांबर समझ गए कि यह बैग उन्हीं बुजुर्ग सवारी का है. पितांबर ने बैग खोलकर देखा तो उसमें नोट भरे पड़े थे. वह बड़ी उलझन में पड़ गए कि आखिर उन बुजुर्ग सवारी को भला वह कहां ढूंढ़े. कुछ देर विचार करने के बाद पितांबर सिटी पुलिस चौकी मंडी पहुंच गए. वहां उन्होंने पूरी बात पुलिसवालों को बताई और रुपये से भरा बैग पुलिस के हवाले कर चलते बने.

परेशान बुजुर्ग FIR दर्ज कराने पहुंचे थानेइस बीच, वह बुजुर्ग सवारी परेशान हुई कि उनका बैग ऑटो में छूट गया. उन्होंने तत्काल ऑटोचालक की तलाश की. जब वह नहीं मिला तो वह हताश हो, घर लौट गए. इधर पुलिस भी परेशान रही. वह भी उस बुजुर्ग सवारी को ढूंढ़ती रही. दो दिन तक बैग थाने में पड़ा रहा. दो दिन बाद इत्तफाकन एक शख्स अपने बेटे के साथ सिटी पुलिस चौकी पहुंचा और अपने गुम हो चुके बैग की रिपोर्ट लिखवाई. इस शख्स ने अपना नाम योगराज बताया. बैग गुम होने की पूरी कहानी सुनाई. उन्होंने बताया कि वे बैंक से रुपये निकाल कर ऑटो में बैठे थे, फिर बाजार तक गए और अपनी चूक की वजह से बैग उन्होंने ऑटो में ही छोड़ दिया. उन्होंने बैग में रखी गई रकम भी सही बताई. पुलिसवालों ने पूरी तरह पूछताछ की और जब इत्मीनान हो गए कि ऑटोचालक द्वारा जमा कराया गया रुपयों से भरा बैग इन्हीं योगराज का है, तो उन्होंने योगराज को आश्वासन दिया कि उनका पैसा उन्हें मिल जाएगा.पुलिस ने बुजुर्ग को उसके पैसे लौटाए

आज एएसपी मंडी आशीष शर्मा की मौजूदगी में ऑटो चालक के हाथों यह राशि योगराज को लौटा दी गई. योगराज के बेटे दीपक शर्मा ने इसके लिए ऑटो चालक का आभार जताया. वहीं एएसपी मंडी ने भी ईमानदारी के लिए ऑटो चालक पितांबर सिंह की पीठ थपथपाई.

! function(f, b, e, v, n, t, s) { if (f.fbq) return; n = f.fbq = function() { n.callMethod ? n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments) }; if (!f._fbq) f._fbq = n; n.push = n; n.loaded = !0; n.version = '2.0'; n.queue = []; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e)[0]; s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, 'script', 'https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js'); fbq('init', '482038382136514'); fbq('track', 'PageView');

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here